सरल आवर्त गति -Simple Harmonic Motion Definition

सरल आवर्त गति की परिभाषा Simple Harmonic Motion Definition (सरल आवर्त गति की परिभाषा ) :- यदि कोई वस्तु एक सरल रेखा पर मध्यमान स्थिति (mean motion) इधर उधर इस प्रकार की गति करे की …

Simple Harmonic Motion Definition - सरल आवर्त गति

Table of Contents

सरल आवर्त गति की परिभाषा

Simple Harmonic Motion Definition (सरल आवर्त गति की परिभाषा ) :- यदि कोई वस्तु एक सरल रेखा पर मध्यमान स्थिति (mean motion) इधर उधर इस प्रकार की गति करे की वस्तु का त्वरण ( Acceleration) मध्यमान स्थिति से वस्तु के विस्थापन के अनुक्रमानुपति हो तथा त्वरण की दिशा मध्यमान स्थिति की और हो , तो उसकी गति सरल आवर्त गति ( Simple Harmonic Motion) कहलाती है

सरल आवर्त गति के प्रकार

सरल आवर्त गति के प्रकार (Types Of Simple Harmonic Motion Definition) :- सरल आवर्त गति दो प्रकार की होती है

  1. रेखीय सरल आवर्त गति ( Linear Simple Harmonic Motion )
  2. कोणीय सरल आवर्त गति (angular Simple Harmonic Motion )

रेखीय सरल आवर्त गति क्या होती है ?

 कोणीय  सरल आवर्त गति (angular Simple Harmonic Motion ) - सरल आवर्त गति -Simple Harmonic Motion Definition
कोणीय सरल आवर्त गति (angular Simple Harmonic Motion )

रेखीय सरल आवर्त गति ( Linear Simple Harmonic Motion ) :- रेखीय सरल आवर्त गति में एक कण निश्चित बिन्दु ( जो कि साम्य स्थिति कहलाती है ) के सापेक्ष इधर – उधर आवर्ती गति एक सरल रेखा में करता है | Example :- स्प्रिंग से जुड़े हुए द्रव्यमान की गति

कोणीय सरल आवर्त गति क्या है ?

 कोणीय  सरल आवर्त गति (angular Simple Harmonic Motion )  - सरल आवर्त गति -Simple Harmonic Motion Definition
कोणीय सरल आवर्त गति (angular Simple Harmonic Motion )

कोणीय सरल आवर्त गति (angular Simple Harmonic Motion ) :- जब कोई पिण्ड निकाय किसी नियत अक्ष के सापेक्ष , कोणीय आवर्त गति करे , तो इस प्रकार की गति को कोणीय सरल आवर्त गति कहते हैं । Example :-  सरल लोलक के गोलक की गति

सरल आवर्त गति की विशेषताए

सरल आवर्त गति करने वाला कण जब अपनी मध्यमान स्थिति से गुजरता है , तो –

  1. उस पर कोई बल कार्य नहीं करता है
  2. उसका त्वरण शून्य होता है
  3. वेग अधिकतम होता है
  4. गतिज उर्जा अधिकतम होती है
  5. स्थितिज उर्जा शून्य होती है

सरल आवर्त गति करने वाला कण जब अपनी गति के अन्त बिन्दुओ से गुजरता है , तो –

  1. उसका त्वरण अधिकतम होता है
  2. us पर कार्य करने वाला प्रत्यानयन बल अधिकतम होता है
  3. गतिज उर्जा शून्य होती है
  4. स्थितिज उर्जा अधिकतम होती है |
  5. वेग शून्य होता है

Conclusion

इस पोस्ट में आपने सरल आवर्त गति के बारे में जाना है की सरल आवर्त गति क्या होती है साथ ही आपने सरल आवर्त गति के प्रकारों के बारे में भी जाना है

इस पोस्ट में आपके सरल आवर्त गति को लेके जितने भी प्रश्न थे हमने उनको समझाने का प्रयास किया है अगर फिर भी आपके कोई प्रश्न है तो आप हमे कमेंट कर सकते है

इस पोस्ट से आपने जरूर कुछ सखा होगा और यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे

धन्यवाद

यह भी पढ़े :- रबड़ क्या है ? व यह कितने प्रकार का होता है -Rubber in hindi , नई आदत डालने के तीन सूत्र

Sharing Is Caring:

1 thought on “सरल आवर्त गति -Simple Harmonic Motion Definition”

Leave a Comment