दीमक- दीमक मारने का उपाय

दीमक :- दीमक कीट वर्ग का प्राणी है जिनकी कई प्रकार की जातियाँ पायी जाती है और यह एक सामाजिक कीट है यह जन्तु जगत की श्रेणी में आते है दीमक का वैज्ञानिक नाम दीमक …

Table of Contents

दीमक :-

दीमक कीट वर्ग का प्राणी है जिनकी कई प्रकार की जातियाँ पायी जाती है और यह एक सामाजिक कीट है यह जन्तु जगत की श्रेणी में आते है

दीमक का वैज्ञानिक नाम

दीमक का वैज्ञानिक नाम :- ओडेन्टोटरमीस ओबेसस(Odontotermes obesus Rambur)

दीमक कौनसे गण का प्राणी है

दीमक का गण :- आइसोप्टेरा गण का प्राणी है

दीमक का कुल कौनसा है

दीमक कुल :- दीमक टर्मिटीडी कुल का है

दीमक की निर्जर्म जातियाँ

इस निर्जर्म जातियों में दो प्रकार की जातियाँ पायी जाती है

(1)सैनिक(Soldier)

निवह में इसकी संख्या कुल सदस्यों की 3-5 प्रतिशत तक होती है सैनिकों के मुखांग असाधारण रूप से विकसित होते है जिनका उपयोग यह मुख्यतः प्रतिरक्षा व शत्रु से संघर्ष के लिए करते है इनके जबड़े लम्बे तथा दृढ़ होते है यह भी श्रमिकों की भांति नपुंसक होते है जिनमे नर व मादा दोनों होते है

(2)श्रमिक(Worker)

यह दीमक की निर्जर्म जाति है जिसमें नर और मादा दोनों होते है यह निवह की बहुत बड़ी श्रम शक्ति होती है जो कि कुल सदस्यों की लगभग 80-90% होती है इसका मस्तिष्क और आँखे अपेक्षाकृत छोटी होती है श्रमिकों के मुखांग मजबूत व दृढ़ होते है जिनको उपयोग सम्पूर्ण परिवार का पालन-पोषण करने तथा घर आदि बनाने में किया जाता है श्रमिकों का आर्थिक दृष्टि से प्रत्यक्ष महत्व है

दीमक की जननक जातियाँ

इस जननक जातियाँ में दो प्रकार की जातियाँ जायी जाती है

(1)निवही जातियाँ(Colonizing caster)

इस प्रकार के दीमक वर्षा ऋतु में पैदा होते है तथा रोशनी पर आकर्षित होते है इनके शरीर पर दो जोड़ी लम्बे पारदर्शक पंख होते है जिनका प्रयोग ये मैथुन उड़ान के लिये करते है इसके पश्चात् इनके पंख गिर जाते है कुछ समय बाद इनमे से प्रत्येक जोड़ा (नर-मादा)राजा-रानी में परिवर्तित होकर मिट्टी में प्रवेश कर नये समाज की रचना करते है

(2)पूरक जातियाँ(Complimentary castes)

इन पूरक जातियों को लैंगिक दृष्टि से देखा जाये तो यह विकसित नर और मादा होती है कॉलोनी में जननक जाति राजकुमार और राजकुमारी की भांति होते है जिनको भावी राजा और रानी कह सकते है यह जननक युगल अनुकूल परिस्थितियों में नई कॉलोनी का निर्माण करने के लिए तैयार रहता है कभी-कभी विशेष परिस्थितियों में यह युगल अपनी ही कॉलोनी के राजा-रानी के उत्तराधिकारी के रूप में भविष्य में संतानोत्पत्ति करके कॉलोनी का विकास करते है

राजा और रानी दीमक का वर्गीकरण

राजा और रानी कॉलोनी के शाही सदस्य होते है राजा का कार्य मात्र मादा को निषेचित करना होता है रानी कॉलोनी की संस्थापक तथा जनक होती है रानी दीमक निवह में सबसे बड़े आकार की होती है

रानी दीमक की लम्बाई लगभग 5 सेंटीमीटर तथा उदर की चौड़ाई 1 सेंटीमीटर होती है इसका उदर अण्डोसे भरा होने के कारण यह मोटी होती है इसलिये यह चल नही पाती और सिर्फ शाही कक्ष में पड़े-पड़े अंडे देती है

रानी दीमक 1 सेकण्ड में एक अण्डा देती है और यह क्रम इसके सम्पूर्ण जीवन काल में चलता रहता है मादा का जीवन का 5 से 10 वर्ष का होता है मादा की कुछ प्रजातियाँ एक दिन में 70 से 80 हजार अंडे दे सकती है इसलिए हम इसे अंडे देने वाली मशीन कहते है

दीमक का जीवन चक्र

दीमक के जीवन चक्र में मात्र तीन अवस्थाएँ पायी जाती है Egg, Nymph, Adults

(1) अण्डा(Egg)

बरसात के शुरू होते ही पंखधारी नर व मादा अपने घरों से निकलकर मैथुन उड़ान भरते है मादा द्वारा बाह्य वातावरण में स्रावित फेरोमोन की उपस्थिति में नर आकर्षित होकर मैथुन किया करते है इसके पश्चात् भूमि के अन्दर चले जाते है और नए निवह के निर्माण का प्रयत्न करते है यह युगल साथ मिलकर छोटे-छोटे नप्चुअल कोष्ठ का निर्माण कर संतति उत्पन्न करते है

रानी इस बीच बढकर 7-8 सेंटीमीटर लम्बी हो जाती है तथा इसका पेट अण्डो से भर जाता है रानी पहले कम संख्या में अंडे देती है परन्तु बाद में 300 से लेकर 20,000 अण्डे प्रतिदिन देती है दीमक के अण्डे हल्के पीले रंग के गुर्दे के आकार के होते है जिनकी लम्बाई 0.5 मि.मी.होती है इसने अण्डे वातावरण के अनुसार 20 से 90 दिनों में फूटते है

(2) शिशु(Nymph)

अण्डो के निकलने के पश्चात् शिशु सफेद, पीले रंग के होते है जिनकी लम्बाई 1.0 मि.मी. होती है प्रारम्भ में कुछ दिनों तक ये राजा रानी की विष्टा खाकर जीवन व्यतीत करते है एवं बाद में भोजन की तलाश में बाहर निकलते है ये शिशु 6-13 महीनों में 4-10 बार त्वचा निर्मोचन करने के पश्चात् प्रौढ़ श्रमिक, सैनिक एवं पंखधारी नर, मादाओ में परिवर्तित हो जाते है इनमे से श्रमिक अधिक बनते है

(3) प्रौढ़(Adults)

प्रौढ़ कीट की विभिन्नरूपता में क्रमशः श्रमिक, सैनिक, पंखधारी नर-मादा, राजा एवं रानी बनते है

दीमक के घर तथा बिल को क्या कहते है

दीमक के घर को टरमिटेरियम या वाल्मीक कहते है

दीमक एक दिन में कितने अण्डे देती है

दीमक एक दिन 300 से 20,000 अण्डे प्रतिदिन देती है

दीमक क्या खाती है

दीमक एक प्रकार लकड़ी में पाये जाने वाले सेलुलोज को खाती है लेकिन इनका मुख्य भोजन लकड़ी है और दीमक अधिकतर लकड़ी से बनी चीजों को नष्ट करती है

दीमक को इंग्लिस में क्या कहते है

Termite कहते है

Conclusion

हम आशा करते है कि आज की इस पोस्ट में आपने दीमक कीट का वर्गीकरण इस पोस्ट में जाना है और साथ में कुछ सिखने को भी मिला होगा, धन्यवाद

यहाँ भी पढ़े :-चार्जर का आविष्कार किसने किया,,,, माइक्रोसॉफ्ट वर्ड की फ़ाइल के पासवर्ड कैसे लगाये

Sharing Is Caring:

2 thoughts on “दीमक- दीमक मारने का उपाय”

Leave a Comment