भाषा

भाषा :- भाषा एक प्रकार से मनुष्य द्वारा बोली जाने वाली सार्थक वाणी को भाषा कहते है.. भाषा हम आपको सरल शब्दों में भाषा मनुष्य की बोली जाने वाली सार्थक वाणी को भाषा कहते है …

bhasha - भाषा

भाषा :- भाषा एक प्रकार से मनुष्य द्वारा बोली जाने वाली सार्थक वाणी को भाषा कहते है..

Table of Contents

भाषा

हम आपको सरल शब्दों में भाषा मनुष्य की बोली जाने वाली सार्थक वाणी को भाषा कहते है /अथवा भाषा वह साधन है जिसे मनुष्य बोलकर, पढकर एवं लिखकर अपने मन के विचारो को आदान-प्रदान करता है

हिन्दी व्याकरण किसे कहते है?

हिन्दी व्याकरण एक प्रकार से शुद्ध लिखना और शुद्ध बोलने को ही हिन्दी व्याकरण कहते है

भाषा कितने प्रकार की होती है?

भाषा तीन प्रकार से होती है जैसे मुह से बोलकर कहना(मौखिक भाषा), किसी को लिखकर समझाना(लिखित भाषा), किसी को इशारो में समझाना(सांकेतिक भाषा)

मौखिक भाषा

यह भाषा का वह रूप है जिसे मनुष्य को बोलकर प्रकट करता है तथा सामने वाला व्यक्ति उसे सुनकर समझ जाता है उसे ही मौखिक भाषा कहते है

लिखित भाषा

यह भाषा का वह रूप है जिसे मनुष्य अपने विचारो को लिख कर प्रकट करता है उसे ही लिखित भाषा कहते है

सांकेतिक भाषा

इस प्रकार की भाषा को मनुष्य अपने विचारो को संकेतो या इशारो से दूसरे व्यक्ति को समझाता है उसे सांकेतिक भाषा कहते है

यहाँ भी पढ़े :- URL क्या है, CPU क्या है

भाषा के दो मुख्य आधार

भौतिक आधार और मानसिक आधार :- विचार और भाव जिनकी अभीव्यक्ति के लिए वक्ता भाषा का प्रयोग करता है लेकिन मानसिक आधार के जरिये श्रोता ग्रहण करता है इनके सहारे भाषा में प्रयुक्त ध्वनी और निकलने वाले भावों या विचारो को ग्रहण किया जाता है

मौखिक भाषा की प्रमुख विशेषताएँ

Query :-यह भाषा का प्रधान रूप है

Query :- मौखिक भाषा का प्रयोग उस समय किया जाता है तब श्रोता और वक्ता एक दूसरे के आमने -सामने हो

Query :- यह भाषा उच्चरित होने के साथ समाप्त हो जाती है

Query :-यह भाषा एक प्रकार से अस्थायी रूप है

Query :- देखने के तरीके से इस में आधारभूत इकाई ध्वनी है

लिखित भाषा की प्रमुख विशेषताएँ

Query :- इस भाषा में आधारभूत इकाई वर्ण है

Query :- यह भाषा एक स्थायी रूप है तथा गौण रूप भी होता है

Query :- यह श्रोता और वक्ता के आमने-सामने होने की अपेक्षा नही करता है

Query :- इसके द्वारा हम अपने विचारो और भावो को अंतकाल के लिए सुरक्षित रख सकते है

भाषा के विभिन्न रूप

बोलियाँ

स्थानीय लोगों द्वारा बोली आने वाली साधारण बोलियाँ को बोली कहते है

Query :- देखा जाये तो बोलियों की संख्या अनेक होती है जैसे किसी क्षेत्र विशेष में बोली जाने वाली भोजपुरी, मगही, अवधी, मराठी, इंग्लिश आदि..

परिनिष्ठित भाषा

इसका प्रयोग शिक्षा, साहित्य और शासन में होता है जबकि यह भाषा व्याकरण से नियंत्रित होती है और जब बोली को व्याकरण से परिष्कृत किया जाता है तब यह परिनिष्ठित भाषा बन जाती है

Query :- जैसे देखा जाये तो खड़ीबोली कभी बोली थी लेकिन आज यह परिनिष्ठित भाषा बन गयी है जिसका प्रयोग भारत के सभी स्थानों पर होता है

Query :- यह भाषा व्यापक शक्ति ग्रहण कर सामाजिक और राजनितिक शक्ति के आधार पर राष्ट्रभाषा और राजभाषा का स्थान पा लेती है

राष्ट्रभाषा

ऐसी भाषा जो किसी राष्ट्र के अधिकांश प्रदेशों के बहुमत द्वारा बोली जाती है या अधिकतर लोगों द्वारा प्रयोग की जाने भाषा राष्ट्रभाषा कहते है

Query :- यह भाषा 70-75% लोगों द्वारा प्रयोग में लाई जाती है तथा भारत की राष्ट्र भाषा हिन्दी है, अपने-अपने देशो की अपनी -अपनी राष्ट्रभाषा होती है

भाषा और बोली में अंतर

भाषा बोली
भाषा की लिपि होती है बोली की कोई लिपि नही होती है
भाषा में व्याकरण होता है बोली में कोई व्याकरण नही होता है
भाषा विस्तृत होती है बोली क्षेत्रीय होती है
भाषा में नियमों का पालन किया जाता है बोली में नियमों का पालन नही होता है

CONCLUSION

हम आशा करते है कि आज आपने इस पोस्ट से भाषा किसे कहते है पढ़ा है और साथ में भाषा से सम्बन्षित सारी जानकारी हमने इस पोस्ट में दी है अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के भविष्य के लिए उनको भी शेयर करे, धन्यवाद

यहाँ भी पढ़े :- Ocam screen recorder, fightedu

Sharing Is Caring:

1 thought on “भाषा”

Leave a Comment